विकास दुबे की मौ’त से पहले का विडियो आया सामने, सोशल मीडिया पर जमकर हो रहा वा’यरल

उत्तर प्रदेश के आठ पुलि’सकर्मि’यों की ह’त्या करने वाला कुख्या’त बदमाश विकास दुबे एनकाउं’टर में मा’रा गया है। उसे कल मध्यप्रदेश के उज्जैन में गिरफ्ता’र किया गया था। जिसके बाद यूपी एसटी’एफ उसे कानपुर ला रही थी। कानपुर जिले से दो किलोमीटर दूर एसटीएफ की गा’ड़ी पल’ट गई। जिसके बाद विकास दुबे ने पुलि’सक’र्मियों के हथिया’र छी’नकर भा’गने की कोशिश की।

विकास दुबे का मौ’त से पहले का वी’डियो सामने आया है। इस वी’डियो में विकास को टो’ल प्लाजा पर देखा गया था। यूपी एसटी’एफ की टीम जिस कार में विकास दुबे को मध्यप्रदेश से उत्तर प्रदेश ला रही थी उसे आखिरी बार कानपुर से पहले बड़ा टोल प्लाजा से गुजरते हुए देखा गया था।

वीडियो में देखा जा सकता है कि टोल प्लाजा पर बड़ी तादाद में पुलि’स फो’र्स तैनात थी। उज्जैन से एसटीएफ टीम के पीछे चल रही मी’डिया की गाड़ियों को घट’नास्थल से करीब 20 किलोमीटर पहले पुलिस ने रोक दिया था। टोल से गुजरने वाले वाहनों की तला’शी ली जा रही थी।

किसी भी तरह के परिस्थिति से निपटने के लिए पुलिस पूरी तरह से तैयार थी। टोल प्लाजा पर जहां से एसटीएफ का काफिला गुजरा उस लाइन को पुलिस ने पहले ही खा’ली करा रखा था। एसटीएफ की टीम विकास को लेकर इसी ला’इन से ते’जी के साथ गुजरी थी।

कानपुर के चौबेपुर के बिकरू गांव में दो जुलाई को सीओ देवेंद्र मिश्र समेत ‘आठ पुलि’सक’र्मियों की ह’त्या कर दी गई थी. दिवंग’त सी’ओ देवेंद्र मिश्र की बेटी ने घर में रखे उनके दस्ता’वेजों में से एक पत्र निका’लकर मीडिया को दिया, जिसमें सीओ ने तत्का’लीन एसएसपी को भेजी गई रिपोर्ट में साफ-साफ कहा था कि एसओ विनय तिवारी अपरा’धी वि’कास दुबे की गो’द में खेल रहा है.

बुधवार को मुठभे’ड़ के समय पुलिस की जा’न जो’खिम में डा’लने के आरो’प में थाना प्रभारी विनय तिवारी और हि’स्ट्रीशी’टर के लिए मुख’बिरी करने के आरो’प में हलका प्रभारी के.के. शर्मा को गिरफ्ता’र कर लिया गया है.

कैसे मा’रा गया विकास दुबे

पुलि’स के अनुसार उज्जैन से कानपुर लाते समय हुए स’ड़क हा’दसे में एक पुलि’स वाह’न के पलट’ने के बाद दुबे ने भा’गने का प्रयास किया, जिसके बाद मुठभे’ड़ में वह मा’रा गया. वहीं, पुलिस वा’हन पल’टने से पुलिस निरीक्षक सहित चार पुलि’सकर्मी घा’यल भी हो गए, जिनमें से एक की हा’लत गंभी’र है.