टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने एक साल में दी इतनी लाख नौकरियां, पिछले साल से 40 हजार से अधिक लोगों को मिला रोजगार…

भारत की सबसे बड़ी आईटी सर्विस कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने एक साल में नौकरी देने का रिकॉर्ड बनाया है.

मार्च 2022 तक इस कंपनी ने एक साल में 1,03,546 लोगों को नौकरियां दी हैं. पिछले साल से 40,000 अधिक लोगों को इस साल जॉब दी गई है. तिमाही में नौकरी देने का आंकड़ा देखें तो उसमें भी टीसीएस ने रिकॉर्ड बनाया है.

एक तिमाही ने इस कंपनी ने अब तक का सबसे अधिक 35,209 कर्मचारियों को रोजगार दिया है. टीसीएस के इस कदम से जान पड़ता है कि आईटी सर्विस का भविष्य उज्ज्वल है और लोगों को इस क्षेत्र में अच्छी नौकरी मिल रही है.

टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज फ्रेशर्स को पूरा मौका देती रही है. यह बात उसके आंकड़ों से पता चलती है. वित्तीय वर्ष 2022 में टीसीएस ने 78,000 नए लोगों यानी कि फ्रेशर्स को मौका दिया जो कि पिछले साल से 40,000 अधिक है.

हालांकि एट्रिशन रेट से कंपनी को दो-चार होना पड़ा. किसी एक तिमाही में कंपनी का एट्रिशन रेट बढ़कर 17.4 फीसदी हो गया, जो साल की शुरुआत में 8.6 फीसदी और दिसंबर 2021 तिमाही में 11.9 फीसदी था.

टाटा की सबसे अधिक कमाई कराने वाली कंपनियों में टीसीएस का नाम प्रमुख है. टाटा मोटरर्स और टाटा पावर की तरह टाटा कंसल्टेंसी भी कंपनी के लिए खूब रेवेन्यू जोड़ती है. शेयर मार्केट में इस कंपनी का स्टॉक हमेशा ऊंचाई पर रहता है.

एट्रिशन ने बढ़ाई चिंता

कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज ने एक नोट में एट्रिशन के बारे में बताया है. नोट में कहा गया है कि प्रतिभा की कमी बनी रहेगी क्योंकि आईटी उद्योग ने रिकॉर्ड संख्या में फ्रेशर्स जोड़े हैं.

नोट में कहा गया है, “हम उम्मीद करते हैं कि कंपनियों की मजबूत हायरिंग को देखते हुए मौजूदा वित्तीय वर्ष के दूसरी छमाही में एट्रिशन कम होना शुरू हो जाएगा और आगे चलकर इसका रेट कम हो जाएगा.”

बीते वित्तीय वर्ष के अंत तक कंपनी में कुल कर्मचारियों की संख्या 592,195 थी. कंपनी को उम्मीद है फ्रेशर्स के आने से सप्लाई साइड में सुधार आएगा और कर्मचारियों की संख्या बढ़ेगी.

पहले से बढ़ गई कमाई

‘मनीकंट्रोल’ की एक रिपोर्ट बताती है कि मार्च 2022 की तिमाही के अंत तक टीसीएस की कमाई 50,591 करोड़ रुपये दर्ज की गई. पिछले एक साल से तुलना करें तो यह 15.8 परसेंट अधिक था.

पूरे वित्तीय वर्ष की कमाई देखें तो यह 191,754 करोड़ रुपये रही जो पिछले एक साल से 16.8 फीसदी अधिक थी. कंपनी को इंक्रीमेंटल रेवेन्यू के तौर पर 3.5 अरब डॉलर की कमाई हुई है.

कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक राजेश गोपीनाथन ने एक बयान में कहा, हम वित्त वर्ष 2022 को एक मजबूत नोट पर बंद कर रहे हैं, ठीक-ठाक ग्रोथ के साथ और अब तक का अधिकतम रेवेन्यू जोड़ रहे हैं.