विकास दुबे के अंतिम संस्कार पर भ’ड़की पत्नी ऋचा दुबे, कहा: ‘जरूरत पड़ी तो बं’दूक भी…’

कानपुर में विकास दुबे का पो’स्टमा’र्टम होने के बाद श’व अं’तिम संस्कार के लिए भै’रव घाट पहुंचा। घाट पर बहनोई दिनेश तिवारी, पत्नी रि’चा दु’बे और बेटा भी पहुंचा। घाट पर प’त्नी रिचा मी’डिया’कर्मियों पर भ’ड़क गई और बोली कि जिसने जैसा स’लूक किया है उसको वैसा सबक सिखा’ऊंगी। जरूरत पड़ी तो बं’दूक भी उठाऊंगी।

विकास के पिता ने कहा है कि जो हुआ ठीक हुआ। इस सब के बाद विकास के बहनोई दिनेश तिवा’री पो’स्टमा’र्टम हाउस उनका श’व लेने के लिए पहुंचे थे। यहां से श’व अंतिम संस्कार के लिए भै’रव घाट ले जाया गया।

बताते चलें कि कानपुर पुलिस ह’त्याकां’ड का मुख्य आ’रोपी हि’स्ट्रीशी’टर विकास दुबे एनकाउं’टर में ढे’र हो गया है। मध्य प्रदेश के उज्जैन से यूपी ला रही यूपी एसटी’एफ टीम की गाड़ियों का काफिला देर रात करीब 3:13 बजे झांसी पहुंचा।

क’ड़ी सुरक्षा के बीच पुलि’स की तीन गाड़ियों के साथ विकास को सड़क मार्ग से उज्जैन से कानुपर लाया जा रहा था। विकास को पुलिस जिस गाड़ी में ला रही थी उसके आगे पीछे पुलिस की दो अन्य गाड़ियां भी साथ चल रही थीं।

तभी सचेंडी थाने के एक किलोमीटर आगे बर्रा थाने के पास हाईवे पर भा’री बा’रिश के बीच गाड़ी पलट गई। बताया जा रहा है कि इस दौरान विकास हथिया’र छी’नकर भा’गने की कोशिश कर रहा था।

जिसके बाद पुलिस ने उसे मुठभेड़’ में मा’र गिराया। गुरुवार को विकास दुबे को उज्जैन के महाकाल मंदिर परिसर से गिरफ्ता’र किया गया था। बताया जा रहा है कि गाड़ी पल’टने के बाद विकास दुबे भा’गने की कोशिश कर रहा था।

उसने हथिया’र छी’नने की कोशिश की थी। शाम करीब छह बजे कानपुर के हैलट अस्पताल में तीन डॉक्टरों अरविंद अवस्थी, शशिकांत मिश्र और विपुल चतुर्वेदी के पैनल ने करीब दो घंटे वीडियोग्राफी के बीच पो’स्टमा’र्टम किया। विकास के सीने से ती’न गो’ली बरामद हुई, जबकि एक गो’ली क’मर में लगी थी।