राज्यसभा में मनमोहन सिंह ने दिए थे 22 उत्तर, वही PM मोदी ने अब तक दिए…

संसद के मॉनसून सत्र में इस बार चर्चा की जगह केवल सरकार और विपक्ष के बीच तना’तनी ही देखने को मिली। आ’रोप-प्रत्यारो’प और प्रदर्शन सत्र ख’त्म होने के बाद भी नहीं थमे। गुरुवार को पूरा विपक्ष सड़क पर उतर आया और संसद भवन से लेकर विजय चौक तक मार्च किया। इसके बाद सरकार का पक्ष रखने के लिए भी एक ही मंच पर आठ मंत्री उतर पड़े।

संसद की कार्यवाही के दौरान ही एक दिन टीएमसी के सांसदों को निलंबित भी कर दिया गया था। इसमें डेरेक ओ ब्रायन भी शामिल थे। अब ब्रायन ने मोदी सरकार से वीडियो जारी करके सवाल किया है। ब्रायन ने कहा कि आठ मंत्री मंच पर उतरे हैं तो मैं उनसे केवल आठ सवाल पूछना चाहता हूं। वे केवल एक का ही उत्तर दे दें तो बहुत है।

उन्होंने कहा, ‘ओबीसी आरक्षण विधेयक के दौरान प्रधानमंत्री कहां गायब थे? जबकि जब इससे जुड़ा विधेयक यूपीए के समय में लाया गया था तब मनमोहन सिंह सदन में मौजूद थे। दूसरा सवाल, 38 विधेयक दोनों सदन में क्यों पास कर दिए गए जबकि एक बिल पर केवल 10 मिनट का समय दिया गया। तीसरा सवाल, 10 में से केवल एक विधेयक को ही पार्ल्यामेट्र स्क्रूटनी के लिए क्यों भेजा गया?’

टीएमसी सांसद ने आगे पूछा, ‘चौथा सवाल, 10 बिल में से चार ऑर्डिनेंस हैं। ऐसा क्यों? पांचवा सवाल- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच साल में राज्य सभा में एक भी सवाल का जवाब नहीं दिया जबकि मनमोहन सिंह ने 22 उत्तर दिए थे। छठा सवाल- दो साल में सरकार ने लोकसभा में डेप्यूटी स्पीकर क्यों नहीं चुना? सातवां सवाल- पेगासस और कृषि कानूनों पर विपक्ष को चर्चा से क्यों रोका गया? आठवां सवाल, संसद चलाना किसकी जिम्मेदारी है? सरकार किसके प्रति उत्तरदायी है? ‘

बता दें कि गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान आठ मंत्रियों की तरफ से कहा गया था कि विपक्ष ने संसद की कार्यवाही में सहयोग नहीं किया और हंगामा किया। पीयूष गोयल ने इसे  लोकतंत्र की ह’त्या करार दिया था। वहीं विपक्ष का आरोप है कि संसद भवन में मार्शल बुलाकर सांसदों को पि’टवाया गया।