बिहार: कांग्रेस का कैंपेन सोंग जारी, सुशासन सरकार से पूछे एक के बाद एक तीखे सवाल

कांग्रेस पार्टी ने बिहार विधानसभा चुनाव के लिए अपना कैंपेन सॉन्ग जारी कर दिया है. इस खास वीडियो में कांग्रेस ने एक गाने के जरिये प्रदेश के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से पूछा है- का किए हो. यानी कांग्रेस पार्टी ने नीतीश कुमार की सरकार से अब तक के काम का लेखा जोखा मांगा है. वीडियो और उसमें जारी किए गए गाने में केंद्र की बीजेपी सरकार को भी निशाना बनाया गया है. गाने में कांग्रेस पार्टी ने पूछा है कि जब बिहार और केंद्र में डबल इंजन की सरकार है तो इतनी दुर्गति क्यों? गाने का बोल है- एक बिहारी सबपे भारी, का निजी और का सरकारी. अब की बार बात सुनो हमारी गुरु, अबकी बार गई तुम्हारी सरकार.

वीडियो सॉन्ग का लब्बोलुआब है कि बिहारी लोग भले बाटी-चोखा खाते हैं लेकिन जो उन्हें धोखा दे, वे उनकी बातों में दोबारा नहीं आते हैं. ठेठ बिहारी अंदाज में इस गाने में बिहार का गुणगान करते हुए नीतीश कुमार और उनकी सरकार पर निशाना साधा गया है. वीडियो में कहा गया है- बिहार से करके झूठे वादे, हर बार बिहार के साथ दगा किए हो. इस बार बिहार दगेबाजी पर नहीं करेगा विश्वास, बिहार पूछ रहा है- सिवाए झूठ और विनाश के, बिहार को का दिए हो? कांग्रेस ने अपने थीम सॉन्ग के साथ और भी कई वीडियो जारी कर नीतीश कुमार की सरकार पर हमला बोला है. वीडियो में कांग्रेस ने पूछा है- प्रवासी मजदूरों को घर आने से रोक रहे थे. तुम कह रहे थे- प्रवासी आकर कोरोना फैलाएंगे, इसलिए हम हर बिहारी को बिहार के बॉर्डर के उस पार दूसरे राज्य में रुकवाएंगे. पूछ रहा है अब हर बिहारी, जवाब देने की है तुम्हारी बारी. कोरोना संकट में बिहार के लिए तुम, का किए हो?

वीडियो के जरिये कांग्रेस ने कई चुभते सवाल उठाए हैं और नीतीश कुमार से जवाब मांगा है. ‘पूछ रहा है बिहार- 15 साल के कुशासनराज में ”का किए हो?” ना स्वास्थ्य, ना शिक्षा, ना रोजगार, ना ही कानून व्यवस्था दुरूस्त किए हो. 15 साल के कुशासनराज में बिहार को तुम सिर्फ भुखमरी, बदहाली दिए हो. अनियोजित लॉकडाउन ने मजबूर बिहार के मजदूर भाइयों को किया था. याद है एक-एक कदम उस पदयात्रा का, जिसको तुमने निर्मित किया था.

याद है वो भी जब ट्रेन कुचल गई थी, घर पहुंचने के सपनों को दफन कर गई थी. तुम सिर्फ टनल में फोटू लिए हो, बताइए बिहार को, बिहार के लिए का किए हो? उत्तर से लेकर दक्खिन तक, मैथिल से लेकर मगही तक. भोजपुर हो या वैशाली की बयार, पूछ रही है एक सवाल का किए हो.’ वीडियो के जरिये बिहार में भ्रष्टाचार की बात उठाई गई है.

भ्रष्टाचार को लेकर बिहार सरकार पर निशाना साधते हुए कांग्रेस ने पूछा है- बिहार को घोटालाराज और अव्यवस्थित शासन दिए हो, बिहार की संपदा को लूट लिए हो. 15 साल के भ्रष्टराज के बारे में पूछ रहा है बिहार- का किए हो? पिछले 15 साल से बिहार में बिछाते आ रहे हो जुमलों का जाल, झूठे वादों संग बिहार का कर दिया बुरा हाल. पूछ रहा है बिहार – रहकर सत्ता में 15 साल, तुम का किए हो? हर बार बिहार के साथ विश्वासघात किए हो. बिहार से करके झूठे वादे, हर बार बिहार के साथ दगा किए हो. इस बार बिहार दगेबाजी पर नहीं करेगा विश्वास, बिहार पूछ रहा है-सिवाए झूठ और विनाश के, बिहार को का दिए हो? कुशल युवा कार्यक्रम भी जुमला निकला, बिहार के साथ ऐसे ही जुमलों का खेल जेडीयू-भाजपा ने खेला है. युवाओं के साथ कब तक ठगी करेगी जेडीयू-भाजपा सरकार?

कांग्रेस ने कहा है, महिलाओं पर अत्याचार बढ़ रहे हैं, हर तरफ अपराध का बोलबाला है. महिला प्रताड़ना पर तुम चुप्पी साध लिए हो. बिहार की महिला शक्ति पूछ रही है- हमरे लिए तुम का किए हो? किसान की फसल की कीमत नहीं दे पा रहे हो, किसान पर तुम जुल्म ढहा रहे हो. किसान की आमदनी जीरो कर दिए हो. बिहार का किसान पूछ रहा है- हमरी आमदनी बढ़ाने के लिए तुम का किए हो? पिछले चुनाव में एक जुमला सुनाकर तुम खूब हल्ला मचाए थे. हर घर बिजली पहुंचा कर उजाला लाएंगे. पूछ रहा है बिहार- तुम्हारे पिछले वादों को का हो गया है, हमरे लिए तुम का किए हो? बिहार में रोजगार को ताला लगा दिए हो, बेरोजगारी बढ़ा दिए हो. बिहार के युवा को पलायन करने को मजबूर कर दिए हो. बिहार का युवा पूछ रहा है- बताओ नीतीश बाबू, तुम हमरे लिए का किए हो? स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड का जुमला छोड़कर स्टूडेंट्स की वोट लिए थे. स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के नाम पर भ्रष्टाचार बढ़ा दिए हो. पूछ रही है छात्र शक्ति- हमको दे दिया धोखा, हमरे लिए का किए हो? कांग्रेस ने कहा, कुशासन बाबू हर चुनाव में नए वादे लेकर आते हैं; पिछले चुनाव के वादों को भूल जाते हैं. कुशासन बाबू बिहार में रोजगार सृजन करने में नाकाम रहे हैं, लॉकडाउन के दौरान बिहार लौटे कामगारों ने नीतीश सरकार की पोल खोली थी.